Ahoi Ashtami – अहोई अष्टमी

करवा चौथ के ठीक चार दिन बाद अष्टमी तिथि ( कार्तिक कृष्ण अष्टमी ) को देवी अहोई माता का व्रत किया जाता है। यह व्रत पुत्र की लम्बी आयु और सुखमय जीवन की कामना के लिये किया जाता है | कुछ लोग इस पर्व को “अशोकाष्टमी’ अथवा “अवई आठें’ भी कहते हैं।

माताएं दिन भर उपवास रखती हैं और सायंकाल तारे दिखाई देने के समय होई का पूजन किया जाता है। अहोईमाता की पूजा करके उन्हें दूध-चावल का भोग लगाया जाता है। 

अहोई अष्टमी कथा – Ahoi Ashatami Katha

अहोई माता की आरती – Ahoi Ashtami Aarti

Related Topics:

Ahoi Mata Aarti – अहोई माता की आरती
Ahoi Ashtami Fasting Story In Hindi – अहोई माता व्रत कथा